खरीफ सीजन में घरेलू बीजों से सोयाबीन की बुवाई करने की सलाह दे रहा कृषि विभाग, जानें क्या है वजह

खरीफ सीजन में घरेलू बीजों से सोयाबीन की बुवाई करने की सलाह दे रहा कृषि विभाग, जानें क्या है वजह
खरीफ में सोयाबीन की खेती के लिए कृषि विभाग दे रहे हैं किसानों को सलाह.

Image Credit source: TV9 Digital

Soybean Farming : कृषि विभाग इस साल किसानों से अपील कर रहा है कि वह बाजारों से लाए गए सोयाबीन बीज की जगह घरेलू बीज से सोयाबीन की बुवाई करें.

खरीफ सीजन आने वाला है. जिसे देखते हुए किसान के साथ – साथ महाराष्ट्र का कृषि विभाग भी सतर्क हो गया है. धान के साथ ही साेयाबीन (Soybean) भी खरीफ की मुख्य फसल है. जिसको लेकर किसान और कृषि विभाग अभी से योजना बनाने में जुटे हैं. असल में उत्पादन और आय की दृष्टि से खरीफ का मौसम महत्वपूर्ण होता है. जिसमें कम उत्पादन लागत और अधिक उपज प्राप्त करने के लिए कृषि विभाग किसानों की मदद करता है. इसी कड़ी में महाराष्ट्र के कृषि विभाग (Agriculture Department) ने सोयाबीन की खेती करने वाले किसानों को लिए एडवायजरी जारी की है. जिसके तहत विभाग ने किसानों को घरेलू बीजों से ही सोयाबीन करने की सलाह दे रहा है. आईए समझते हैं कि कृषि विभाग की तरफ से जारी की गई इस सलाह के पीछे का मुख्य कारण क्या है और यह किसानों के लिए कितनी मददगार साबित हो सकती है.

कम लागत में अधिक उत्पादन में मिलेगी मदद

खरीफ सीजन में सोयाबीन की खेती करने वाले किसानों को कृषि विभाग बाजार के बीजों की जगह घरेलू बीज अपनाने की सलाह दे रहा है. कृषि विभाग का मानना है कि इससे किसानों की जहां लागत कम होगी, तो वहीं इससे उत्पादन भी बढ़ेगा, जो किसानों के लिए फायदेमंद होगा. कृषि विभाग ने किसानों को अभी से घरेलू बीजों की व्यवस्था करने की सलाह भी दी है.

बाजारों के बीज में भरोसे से सीजन बर्बाद होने की संभावना

किसान को बीज के लिए अक्सर परेशानियों का सामना करना पड़ता है. वहीं कृषि विभाग का कहना है इसके लिए किसानों को अभी से घरेलू बीजों की व्यवस्था करनी चाहिए. साथ ही कृषि विभागों ने किसानों से बाजार के बीजों पर भरोसा नहीं करने को कहा है. कृषि विभाग के मुताबिक बाजार के बीज ठीक से अंकुरित नहीं हो पाते हैं. इससे न सिर्फ आर्थिक नुकसान होता था बल्कि पूरा सीजन भी बर्बाद हो जाता था. वहीं लगातार बारिश से विभिन्न बीज कंपनियों के सीड प्लॉट सफल नहीं हो पाते हैं.

ये भी पढ़ें



ऐसे घर पर तैयार कर सकते हैं बीज

कृषि विभाग ने घर पर बीज तैयार करने के लिए कुछ सावधानी अपनाने को कहा है. जिसमें सबसे महत्वपूर्ण बीज उपचार प्रक्रिया है. कृषि विभाग के मुताबिक बेहतर बीज उपचार के लिए सोयाबीन की फसल के खेत में खड़े रहने के दौरान ही उससे कीट व रोगग्रस्त पौधों को हटाना जरूरी है. वहीं कटाई के बाद भी अंकुरण को बनाए रखने के लिए कवकनाशी का छिड़काव आवश्यक है. इसके बाद सोयाबीन को सुखाते समय बिना बड़े ढेर लगाए पतली परत बनानी होती है. कृषि विभाग ने थ्रेसिंग के बाद बोरियों को भरने के लिए दो दिन का समय देने की सलाह दी है. इस प्रक्रिया से किसान आसानी से सोयाबीन के बीज का इतेमाल कर सकते है.